top of page
Search

मराठी दक्षिणा विचार/ हिन्दी में दक्षिणा विचार/Dakshina thought/ wichar In English

दक्षिणा विचार

निर्णयसिंधु:

व्रत उद्यापन :ज्या व्रताला जे उद्यापन उक्त असेल ते व्रताच्या

समाप्तीस करावे.जे व्रत उद्यापनविरहित ते निष्फल होते.

जर उद्यापन उक्त नसेल तर त्या व्रताला योग्य असे उद्यापन करावे. द्रव्यानुसार गोप्रदान सुवर्ण दान करावे.त्यायोगे व्रताची सांगता होते. अशक्ति असता सर्वांचाही अलाभ असेल तर यथाविधी केल्या वाचूनही ही केवळ ब्राह्मणाच्या वचनाने व्रताची सांगता होते.

जो मनुष्य ब्राह्मणास दक्षिणा दिल्यावाचून ब्राह्मण वचन घेतो तो पापी होऊन नरकास जातो.

वेदात व उपनिषदात उक्तभूमि, गाय, सुवर्ण ही दक्षिणा सांगितली आहे शिव नेत्रापासून रौप्य उत्पन्न झाले म्हणून ते पितरांना प्रिय व मंगल आहे यास्तव ते देवकार्यात वर्ज करावे. कलियुगामध्ये मुक्त भुमी गाय सुवर्ण ही दक्षिणा सांगितली आहे. ते शक्य नसेल तर त्याच्या व्यावहारिक किमतीनुसार आपल्या उत्पन्न चलन स्त्रोतास अनुसरून निष्क्रयद्वारा दक्षिणा प्रदान गरजेचे आहे. निष्क्रयद्वारा व्यावहारिक द्रव्य दान करणे गरजेचे आहे.

उदाहरणार्थ-जर एखादा मनुष्य अमेरिकन डॉलर्स मध्ये अर्थप्राप्ती करत असेल आणि त्याने जर भारतात धर्मकार्य करायचे ठरविले तर त्याने गुरुजींची दक्षिणा ही भारतीय रुपयांमध्ये न देता अमेरिकन डॉलर्स प्रमाणे देणे धर्म शास्त्राला अभिप्रेत आहे.कारण त्याच्या उत्पन्नाचा स्त्रोत हा भारतीय रुपया नसून अमेरिकन डॉलर आहे. म्हणजे गुरुजी जी दक्षिणा भारतीय रुपयांमध्ये सांगतील ती दक्षिणा त्याने अमेरिकन डॉलर्स मध्ये देणे गरजेचे असते. थोडक्यात जेवढे रुपये तेवढे डॉलर्स. अन्यथा तो दक्षिणा दिल्यावाचून ब्राम्हण वचन घेतो असे होईल.

उदाहरणार्थ जर गुरुजी 5001 ₹ दक्षिणा सत्यनारायण पूजेसाठी भारतात घेत असतील तर ज्याचा उत्पन्नाचा स्त्रोत अमेरिकन डॉलर्स आहे त्याच्या साठी ती दक्षिणा 5001 यू.एस. डॉलर्स म्हणजे आज मितीस 83.30 प्रति डॉलर ×5001=4,16,583.3 भारतीय ₹ होतील.


हिन्दी में

दक्षिणा विचार

निर्णय सिंधु:

व्रत उद्यापन: जिस व्रत के उद्यापन का उल्लेख किया गया है

व्रत की समाप्ति होने पर अवश्य करें। उद्यापन के बिना व्रत निष्फल होता है।यदि उद्यापन न बताया गया हो तो उस व्रत के अनुसार ही उद्यापन करना चाहिए। राशि के अनुसार गोप्रदान स्वर्ण का दान करना चाहिए, इससे व्रत का समापन होता है। यदि कमजोरी है तो सभी को नुकसान होता है, अनुष्ठान पढ़ने के बाद भी ब्राह्मण का व्रत ही व्रत का समापन होता है।


जो मनुष्य ब्राह्मण को दक्षिणा देकर उससे वचन लेता है, वह पापी होता है और नरक में जाता है।


वेदों और उपनिषदों में उक्तभूमि, गाय, सोना को दक्षिणा कहा गया है, क्योंकि चांदी शिव के नेत्र से उत्पन्न हुई है, यह पितरों को प्रिय और शुभ है, इसलिए इसका उपयोग भगवान के कार्य में किया जाना चाहिए। कलियुग में दक्षिणा को मुक्त भूमि गाय सोना कहा गया है। यदि यह संभव नहीं है तो अपनी आय के स्रोत मुद्रा के व्यावहारिक मूल्य के अनुसार निष्क्रिय आय प्रदान करना आवश्यक है। निष्क्रिय साधनों द्वारा व्यावहारिक सामग्री का दान करना आवश्यक है।


उदाहरण के लिए - यदि कोई व्यक्ति अमेरिकी डॉलर में कमाता है और यदि वह भारत में धार्मिक कार्य करने का निर्णय लेता है, तो उसे गुरुजी की दक्षिणा भारतीय रुपये के बजाय अमेरिकी डॉलर में देनी चाहिए। यानी गुरुजी जो दक्षिणा भारतीय रुपयों में देंगे, वह उन्हें अमेरिकी डॉलर में देनी होगी. संक्षेप में कहें तो जितने रुपये उतने डॉलर. अन्यथा वह दक्षिणा देकर ब्राह्मण व्रत ले रहा होता।


उदाहरण के लिए यदि गुरुजी भारत में सत्यनारायण पूजा के लिए ₹5001 दक्षिणा लेते हैं, तो जिसकी आय का स्रोत अमेरिकी डॉलर है, उसके लिए वह दक्षिणा 5001 अमेरिकी डॉलर है। डॉलर आज की तारीख में 83.30 प्रति डॉलर ×5001=4,16,583.3 भारतीय ₹ होंगे।


In English.

Dakshina thought/ wichar

Nirnay Sindhu:

Vrat Udyapan: The Vrat for which the

Udyapan is mentioned Should be done at the end. The fast without Udaypana is fruitless.


If Udyapan is not mentioned then Udyapan should be done according to that fast. Gopradan gold should be donated according to the amount. That concludes the fast. If there is weakness, then everyone is at a disadvantage, even after reading the rituals, the vow of a Brahmin is the conclusion of the vow.


A man who takes the promise of a Brahmin after giving Dakshina to a Brahmin becomes a sinner and goes to hell.


In the Vedas and Upanishads, Uktabhoomi, cow, gold are said to be Dakshina, as silver is produced from Shiva's eye, it is dear and auspicious to the fathers, so it should be used in the work of God. Dakshina is said to be free land cow gold in Kali Yuga. If that is not possible then it is necessary to provide passive income as per the source of your income currency as per its practical value. It is necessary to donate practical material by passive means.

For example - if a person is earning in US Dollars and if he decides to do religious work in India, he should give Guruji's Dakshina in US Dollars instead of in Indian Rupees. That means the Dakshina that Guruji will give in Indian rupees, he has to give in US Dollars. In short, as many rupees as dollars. Otherwise he would be taking a Brahmin vow by giving Dakshina.

For example if Guruji takes ₹ 5001 Dakshina for Satyanarayana Pooja in India, then for one whose source of income is US Dollars, that Dakshina is 5001 U.S. Dollars which will be 83.30 per dollar ×5001=4,16,583.3 Indian ₹ as of today.


6 views0 comments
  • Blogger
  • Tumblr
  • TikTok
  • Snapchat
  • Pinterest
  • Telegram
  • Gmail-logo
  • Instagram
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • youtube
  • generic-social-link
  • generic-social-link

Join us on mobile!

Download the “PANDITJIPUNE” app to easily stay updated on the go.